Bhopal

सुल्तानिया अस्पताल: 42 डिग्री में प्रसूताओं को कूलर की हवा भी नसीब नहीं, गर्मी से बेहाल

भोपाल। राजधानी के सुल्तानिया अस्पताल में व्यवस्थाएं सुधर नहीं रही हैं। स्थिति यह है कि तापमान 42 डिग्री से अधिक पहुंच गया है, इसके बावजूद अस्पताल में कूलर-पंखों और एसी की व्यवस्था दुरुस्त नहीं है। कुछ कूलर खराब हैं, तो कुछ पानी न होने से बंद पड़े हैं। इसका खामियाजा वार्डों में भर्ती प्रसूताओं को उठाना पड़ रहा है। भीषण गर्मी और उमस से उनके बुरे हाल हैं।

अस्पताल में कुल आठ महिला वार्ड हैं। हर वार्ड में एक कूलर की व्यवस्था की गई है। इनमें से दो वार्डों स्टॉफ वार्ड तथा आबिदा वार्ड-1 में कूलर खराब पड़े हैं। इन वार्डों में भर्ती प्रसूताओं का कहना है कि दिन तो जैसे-तैसे कट जाता है, लेकिन रात में गर्मी की वजह से नींद नहीं आती है। इसी तरह चार वार्डों में कूलर इसलिए बंद थे, क्योंकि उनमें पानी डालने वाला कोई नहीं था। इन वार्डों में प्रसूताएं गर्मी से बेहाल थीं। सिर्फ दो वार्डों में ही कूलर चल रहे थे। गौरतलब है कि यहां 250 से अधिक प्रसूताएं भर्ती हैं। रोजाना 60 डिलेवरी होती हैं।

करंट मार रहा कूलर

पहली मंजिल पर स्टॉफ के लिए बनाए गए वार्ड में जो कूलर लगाया गया है, उसमें करंट आ रहा है। इसलिए यह कई दिनों से यूं ही खुला पड़ा हुआ है।

मरीज अधिक, कूलर कम

अस्पताल में भर्ती प्रसूताओं की तुलना में कूलर की संख्या काफी कम है। हर वार्ड में करीब 20 से 30 प्रसूताएं भर्ती हैं और इनके लिए मात्र एक कूलर है। इनमें भी कुछ खराब हैं। ऐसे में तेज गर्मी में प्रसूताओं को परेशानी हो रही है।

Please follow and like us:

Leave a Reply