Blog

रमजान: आज आखिरी जुमे को पड़ी जाएगी विशेष नमाज़,जानिये जुमे का दिन इस्लाम में महत्वपूर्ण क्यों है।

रमजान महीने की आखिरी जुम्मे की नमाज 31 तारिक़ को पढ़ी जाएगी. इसे जुमा उल विदा कहते हैं. इस्लाम में जुम्मे की नमाज़ को बहुत खास माना जाता है. मान्यता है कि इस दिन अल्लाह को याद करने से वो सारे गुनाहों को माफ कर देते हैं.
जुमा उल विदा को उर्दू में अलविदा जुम्मा मतलब होता है. इसके बाद ही ईद-उल-फितर यानी मीठी ईद मनाई जाती है. इस बार मीठी ईद 5 या 6 मई को मनाई जाएगी.
जमात उल विदा के दिन सभी रोजेदार नमाज अदा करने मस्जिद जाते हैं. इस नमाज में रोजेदार अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी मांगते हैं और फरियाद करते हैं.

इन 3 नियमों को पालन ना करने पर पूरी नहीं होती जुमे की नमाज
सिर्फ रमजान के दौरान ही नहीं बल्कि इस्लाम धर्म में हर जुम्मे की नमाज को खास माना जाता है. मान्यता है कि जुम्मे की दिन ही अल्लाह ने इंसान को बनाया था. इस वजह से इस्लाम में जुम्मे के दिन नमाज के साथ-साथ दान भी किया जाता है.
मीठी ईद से पहले इस आखिरी जुम्मे की नमाज के दिन को हंसी-खुशी मनाया जाता है. इफ्तार में पकवान के साथ-साथ रोजेदार नए कपड़े पहनकर मस्जिद जाते हैं.

Please follow and like us:

Leave a Reply