Agriculture Madhya Pradesh

शिवपुरी जिले में सहकारी समिति द्वारा ख़राब चना खरीद के गोदाम में भरा :नाफेड का खुलासा, किसानो का 16 करोड़ का भुगतान रुका।

कोलारस/शिवपुरी . सहकारी समितियों द्वारा जिले में समर्थन मूल्य पर घटिया चना खरीदकर गोदामों में भर दिया गया। यह खुलासा नाफेड की जांच में हुआ है। नाफेड की जांच रिपोर्ट में 27 हजार क्विंटल से ज्यादा अमानक चने का भंडारण गोदामों में पाया गया है। अमानक चने का नाफेड ने भुगतान जारी करने से इंकार कर दिया है।

इससे किसानाें का 16 कराेड़ रुपए का भुगतान अटक गया है। नाफेड के शाखा प्रबंधक ने मप्र सिविल सप्लाई कॉर्पाेरेशन को पत्र जारी कर अमानक चने का भुगतान जारी न करने की बात कही है। इससे प्रशासन की जिला स्तरीय जांच समिति पर भी सवाल उठने लगे हैं। प्रशासन ने काेलारस के श्रीजी गोदाम में अमानक चना पाए जाने के मामले में केस दर्ज कराने के बाद दूसरे गाेदामों की जांच कराने में रुचि नहीं दिखाई। इसके पीछे माना जा रहा है कि जांच दल में शामिल कुछ अधिकारियों ने प्रशासन को गुमराह किया है। इससे जिला स्तर से गोदामों की जांच ही नहीं हो पाई।

किसानों को झटका… नाफेड ने मप्र सिविल सप्लाई कॉर्पाेरेशन को पत्र जारी कर कहा- अमानक चने का नहीं हाेगा भुगतान

जिन्होंने सही माल बेचा, उन्हें भी नुकसान होगा : शिवपुरी जिले में करीब 6 करोड़ रुपए का भुगतान किसानों का रुका हुआ है। यदि नाफेड उक्त राशि जारी नहीं करता है तो सही माल बेचने वाले किसानों की परेशानी बढ़ जाएगी। जबकि किसानों की आड़ में सोसायटियों द्वारा अमानक चना खरीदा गया है, जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ सकता है।

इन एसडब्ल्यूसी गोदामों में मिला अमानक चना

गोदाम बोरा
रायश्री 15/4 3013
रायश्री 11/01 में 3108
बालाजी शिवपुरी- 10/12 3056
बालाजी शिवपुरी- 10/25 3256
महादेव शिवपुरी 9/33 375
गणेश बदरवास 11 /03 3700
गणेश बदरवास 11/06 3800
गणेश बदरवास 11/07 3800
गणेश बदरवास 11/08 3650
लुकवासा मंडी बदरवास 3080
बालाजी बदरवास 12/01 3080
बालाजी बदरवास 12/02 3080
बालाजी बदरवास 12/03 3360
बालाजी बदरवास 12/04 3360
गिर्राजजी वेयर हाउस 1/03 3552

हमें कोई पत्र नहीं मिला है : नाफेड की टीम ने क्या जांच की है, हमें कुछ जानकारी नहीं है। आप जिस पत्र की बात कर रहे हैं, उसकी भी जानकारी नहीं है।’ – पीयूष माली, डीएम, नागरिक आपूर्ति निगम, शिवपुरी

भुगतान नहीं रोक सकते : नाफेड के सर्वेयरों द्वारा समर्थन मूल्य पर खरीदी की गई है। इस तरह भुगतान नहीं रोका जा सकता। हम इस मामले को दिखवाएंगे। फिर आगे की कार्रवाई की जाएगी। – अनुग्रहा पी., कलेक्टर, शिवपुरी

भुगतान हम नहीं होने देंगे : शिवपुरी में नाफेड कां जांच दल गया था, जिसने गाेदामाें की जांच की थी। अमानक चने का भुगतान हम नहीं हाेने देंगे। इसके लिए सिविल सप्लाई कॉर्पोेरेशन को हमने पत्र भेज दिया है। – अभिषेक कुमार, ब्रांच मैनेजर, नाफेड, इंदौर

Please follow and like us:

Leave a Reply